Begusarai Ki Boli : Bhasha Shastriya Adhyayan / बेगूसराय की बोली : भाषा शास्त्रीय अध्ययन
Author
: Shukdeo Singh
  Awadhesh Kumar Singh
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Publication Year
: 1976
ISBN
: 9VPBKBP
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: xii + 172 Pages, Append., Biblio., Size : Demy i.e. 21.5 x 14 Cm.

MRP ₹ 40

Discount 15%

Offer Price ₹ 34

बेगूसराय की बोली के अव्यय, उपसर्ग और प्रत्यय विविधतापूर्ण है। प्राय: ऐसा देखा जाता है कि किसी भाषा की उपबोलियों के अनुत्पादक तत्त्व प्राय: एक ही होते हैं। एक उपबोली और दूसरी उपबोली से अंतर करने मे अव्यय, उपसर्ग और प्रत्यय जैसे तत्त्व बहुत अधिक सहायक नहीं होते, लेकिन बेगुसराय की बोली के ये तत्त्व सारी सीमावर्ती बोलियों से अनेक स्तरों पर भिन्न हो जाते हैं। इसलिए इस तर्क को पूरा अवकाश मिल जाता है कि बेगुसराय की बोली बेगूसराय की जनता के चरित्र और आदर्श की तरह ही स्वतंत्र और मौलिक है। भाषा वस्तुत: किसी जाति की प्रजातीय विशेषताओं और आंतरिक चरित्र की ही अभिव्यक्ति होती है। इसीलिे बेगूसराय की जनता भाषा के स्तर पर भी मिथिला, मगध और भोजपुर से अपनी भिन्नता बनाने में समर्थ दिखाई पड़ती है।