Aadhunik Kahani Sangrah / आधुनिक कहानी संग्रह
Author
: Kendriya Hindi Sansthan, Agra
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 2003
ISBN
: 9VPAKSP
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: viii + 400 Pages, Size : Crown i.e. 17 x 12 Cm.

MRP ₹ 40

Discount 10%

Offer Price ₹ 36

OUT OF STOCK

A Unique Collection of Stories from Famouns Hindi Literary Writers :- Chandradhar Sharma Guleri : USANE KAHA THA, Premchand : DO BAILON KI KATHA, Jaishankar Prasad : PURASKAR, Pandey Bechan Sharma Ugra : USAKI MAA, Pt. Shriram Sharma : MAUT KE MUHN MEIN, Jainendra : DHRUVA YATRA, Agyeya : CHIDIYA GHAR, Yashpal : MAHARAJA KA ILAJ, Upendra Nath Ashka : MANUSHYA YAH, Bhagwati Charan Verma : DO BANKE, Bhishma Sahni : VANGCHU, Krishna Chandar : SHAHJADA, Usha Priyamvada : VAPASI, Kamaleshwar : MANSAROVAR KE HANS, Rajendra Yadav : TALVAR PANCHHAJARI, Mohan Rakesh : MALBE KA MALIK, Maheep Singh : KATAV, Mannu Bhandari : RANI MAA KA CHABUTARA, Harishankar Parsai : WAH KYA THA, Shailesh Matiyani : POSTMAN, Mehrunnisa Parvej : HATYA EK DOPAHAR KI, Robin Shaw Pushpa : AGNI KUND, Jugnu Shardeya : YAH KAHANI NAHIN HAI, Shailendra Sharma :NASHTAR KHAMOSHIYON KE, Sunil Kaushik : CHAKRAVUHA, Mrinal Pandey : DURGHATANA, Kantidev : PENCHDAR KHAI (PKM) प्रसिद्ध हिन्दी कथा लेखकों/ लेखिकाओं की ख्यातिप्राप्त कथाओं (कहानियों) का अनूठा संग्रह :— चन्द्रधर शर्मा गुलेरी : उसने कहा था / प्रेमचंद : दो बैलों की कथा / जयशंकर प्रसाद : पुरस्कार / पाण्डेय बेचन शर्मा 'उग्र' : उसकी माँ / पं० श्रीराम शर्मा : मौत के मुँह में / जैनेन्द्र : ध्रुव यात्रा / सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्सयायन 'अज्ञेय': चिडिय़ा घर / यशपाल : महाराजा का इलाज / उपेन्द्रनाथ अश्क : मनुष्य-यह / भगवतीचरण वर्मा : दो बाँके / भीष्म साहनी : वाङचू /कृश्नचंदर : शहजादा / उषा प्रियंवदा : वापसी / कमलेश्वर : मानसरोवर के हंस / राजेन्द्र यादव : तलवार पंचहजारी / मोहन राकेश : मलबे का मालिक / महीप सिंह : कटाव / मन्नू भंडारी : रानी माँ का चबूतरा / हरिशंकर परसाई : वह क्या था? / शैलेश मटियानी : पोस्टमैन / मेहरुन्निसा परवेज : हत्या एक दोपहर की / रॉबिन शॉ पुष्प : अग्निकुंड / जुगनू शारदेय : यह कहानी नहीं है / शैलेन्द्र शर्मा : नश्तर खामोशियों के / सुनील कौशिक : चक्रव्यूह / मृणाल पांडे : दुर्घटना / कांतिदेव : पेंचदार खाई