Chunalgeet (A Collection of Bhojpuri Songs) / चुनलगीत (भोजपुरी गीतों का संकलन)
Author
: Kripa Shankar Shukla
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Publication Year
: 2003
ISBN
: 8171243266
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xii + 104 Pages, Size : Demy i.e. 22.5 x 14 Cm.

MRP ₹ 80

Discount 20%

Offer Price ₹ 64

भोजपुरी बिहार और उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में दूर-दूर तक फैली हुई एक सशक्त भाषा है। इसका साहित्य अत्यन्त समृद्ध है। मारिशस, त्रिनिडाड आदि देशों में भी इसका व्यापक प्रचार-प्रसार है। भोजपुरी गीतों की ओर विलियम क्रुक और डॉ. ग्रियसन जैसे विद्वानों का ध्यान सबसे पहले आकृष्टï हुआ था। बाद को पण्डित रामनरेश त्रिपाठी और डॉ. कृष्णदेव उपाध्याय ने इस परम्परा को आगे बढ़ाया था। लुप्त हो रही इस सांस्कृतिक धरोहर को सुरक्षित करके भोजपुरी अञ्चल की लोक-चेतना को पुनर्जागृत करने की अपेक्षा है। भोजपुरी साहित्य को संवर्धित एवं संरक्षित करने के दृष्टिïकोण से 'चुनलगीतÓ में भोजपुरी के समकालीन एवं प्राचीन रचनाकारों की प्रतिनिधि कविताएँ संकलित की गई हैं। अमवाँ की डरिया में परेला हिडोलवा, झुरके ले तिलरी बयार हो। भीजन लागे मोरी पंच रंग सरिया, रिमि झिम परे ला फुहार हो॥ उमडि़ घुमडि़ बरसन लाग बदरी, भीजे ला अँगिया के तार हो। झलुआ झूलत रहली, .....