Prarambhik Sankhyikiya Vidhiyan (Elementary Statistical Methods) / प्रारम्भिक सांख्यिकीय विधियाँ
Author
: Praveen Chandra Srivastava
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 2008
ISBN
: 9788171246328
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xii + 270 Pages, Size : Crown Octavo i.e. 25 x 19 Cm.

MRP ₹ 280

Discount 20%

Offer Price ₹ 224

वर्तमान में शिक्षा का परिदृश्ïय अत्ïयन्ïत परिवॢतत हो चुका है। 'शिक्षक-केन्ïिद्रत व्ïयवस्थाÓ के स्थान पर 'छात्र-केन्ïिद्रत व्ïयवस्थाÓ तथा 'शिक्षणÓ के स्थान पर 'अधिगमÓ को अधिक महत्त्ïव दिया जाने लगा है। परम्परागत पाठ्य पुस्ïतकें छात्रों में अधिगम जनित कराने में सर्वथा असमर्थ हैं। इन परिस्थितियों में ऐसी पुस्ïतकों की नितान्ïत आवश्ïयकता है जो छात्रों को अभिप्रेरित करते हुए उनमें व्ïयवहारगत परिवर्तन ला सकें। प्रस्ïतुत पुस्ïतक में उपर्युक्त बातों की गहन आवश्ïयकता महसूस करते हुए लेखक ने प्रत्ïयेक अध्ïयाय के प्रारम् ïभ में ही अनुदेशनात्ïमक उद्देश्ïयों को निर्धारित कर दिया है तथा विषय वस्ïतु को छोटे-छोटे अंशों में एक-दूसरे से सम्ïबन्ध स्थापित करते हुए प्रस्ïतुत किया है। प्रत्ïयेक अंश में छात्र को सक्रिय अनुक्रिया करने के लिए बाध्ïय किया गया है तथा समवर्ती मूल्ïयांकन का प्रयोग करते हुए स्ïवमूल्ïयांकन की विधा को स्थापित करने का प्रयास किया गया है। उक्त विशिष्ïटताओं के कारण प्रस्ïतुत पुस्ïतक औपचारिक शिक्षा से जुड़े छात्रों के साथ-साथ निरौपचारिक शिक्षा से जुड़े छात्रों हेतु भी अत्ïयन्ïत उपयोगी सिद्ध होगी। पुस्ïतक में प्रमुख सांख्यिकीय विधियों को 14 अध्ïयायों के माध्ïयम से प्रस्ïतुत किया गया है। पुस्ïतक का आरम्भ एक अति आधारभूत प्रश्ïन 'सांख्ïियकी क्ïया है?Ó से करते हुए केन्ïद्रीय प्रवृत्ति के माप, विचलनशीलता के माप, सामान्ïय वितरण वक्र, सह-सम्बन्ध विश्ïलेषण, प्रायोगिक परिकल्ïपनाओं के परीक्षण, प्रसरण-विश्ïलेषण, काई-वर्ग परीक्षण जैसी महत्त्ïवपूर्ण सांख्ïियकीय विधियों पर सारगॢभत चर्चा की गई है।