Aansu / आँसू (कविता)
Author
: Jaishankar Prasad
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 2009
ISBN
: 9788171246878
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: 60 Pages, Size : Crown i.e. 18 x 12 Cm.

MRP ₹ 12

Discount 10%

Offer Price ₹ 11

OUT OF STOCK

'आँसूÓ ने हिन्दी जगत् को ही नहीं, अहिन्दी भाषा-भाषियों को भी 'रसÓ-सिक्त किया है। हिन्दी के गीति-काव्यों में 'आँसूÓ को सबसे अधिक प्रसिद्धि प्राप्त हुई है। 'प्रसादÓ सजग कलाकार थे, वे अपने वातावरण से संकेत ले उसे अपनी भावनाओं से भरने की क्षमता ही न रखते थे, भविष्य के चिन्तन को भी पहचान सकते थे। 'आँसूÓ में जहाँ कवि की भाव-विह्वïलता पाठक को उद्वेलित करती है, वहीं उसकी छंद-योजना, उपमा-रूपक आदि अलंकारों का सहज प्रयोग, प्रवाहमयी भाषा आदि से अंत तक बाँधे रहती है। इस करुणा कलित हृदय से, क्यों विकल रागनिी बजती? क्यों हाहाकार स्वरों में, वेदना असीम गरजती? बुलबुले सिन्धु के फूटे नक्षत्र मालिका टूटी। नभ मुक्त कुन्तला धरणी, दिखलाई देती लूटी॥