Bhushundi Ramayan : Purva Khand / भुशुण्डि रामायण : पूर्व खण्ड
Author
: Bhagwati Prasad Singh
Language
: Sanskrit
Book Type
: Text Book
Category
: Ramayan, Ramcharitmanas, Mahabharat
Publication Year
: 1975
ISBN
: 9VPBRH
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: Cxxii + 974 pages, Size : Royal Octavo 24.5 x 15

MRP ₹ 500

Discount 15%

Offer Price ₹ 425

भारतीय वाङ्मय में रामायण रचना की एक विशिष्ट परम्परा है। इस विशाल देश के दीर्घकालीन इतिहास में रामचरित पर आधृत जितना प्रचुर एवं विविधरूपात्मक साहित्य लिखा गया है वह उसके लोकाकर्षण का श्रेष्ठतम प्रमाण है। युगों-युगों में राष्ट्र के सांस्कृतिक जीवनदर्शन के अनन्यतम प्रतीक के रूप में राम की जीवनगाथा समकालीन मनोभावों से संवलित हो जनजीवन में नवचेतना का संचार एवं चिरंतन मूल्यों की स्थापना करती रही है। रामकथा के विकास के तीनों स्तरों—ऐतिहासिक, साहित्यिक तथा साम्प्रदायिक—मैं विरचित-रामायणों के अनुशीलन से उपर्युक्त उपपत्ति की यथार्थता सिद्ध होती है। महॢष बाल्मीकि ने दाशरथि राम की गाथा लिखी; भास, कालिदास और कुमारदास ने मानवीय संवेगों से संपृक्त महामानव राम का चरित्रांकन किया तथा कंबन, कृत्तिवास एवं तुलसी की वैष्णवभक्ति से आप्लावित वाणी ने अत्यन्त मर्मस्पर्शी शैली में लोकतत्त्वों से परिप्लुत ब्रह्मï राम की अवतारलीला का वृत्त प्रस्तुत किया। भुशुण्डि रामायण रामकथा की इस विशाल परम्परा की एक महत्त्वपूर्ण कड़ी है।

A RARE BOOK