Hindi Gyaneshwari (Gita) : Sant Gyaneshwar / हिन्दी ज्ञानेश्वरी (श्रीमद्भगवद्गीता) : संत ज्ञानेश्वर
Author
: N.V. Sapre
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Publication Year
: 2009 - 3rd Edition
ISBN
: 9MGHGSGP
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: xvi + 468 Pages, Size : Demy i.e. 21.5 x 13.5 Cm.

MRP ₹ 180

Discount 15%

Offer Price ₹ 153

हन्दी ज्ञानेश्वरी (श्रीमद्भगवद्गीता की 'साथ ज्ञानेश्वरीÓ नामक प्रसिद्ध टीका) संत शिरोमणि श्री ज्ञानेश्वरजी महाराज ज्ञानेश्वरजी की गणना महाराष्टï्र के नितांत लोकप्रिय एवं श्रेष्ठï संतों में होती है। नाथपंथी साधुओं के सम्पर्क एवं उत्तर-भारत के प्रवास के कारण उन्होंने मराठी के साथ-साथ हिन्दी जनमानस में भी प्रवेश कर लिया था। सामान्य जनता के लिए उन्होंने 'श्रीमद्भागवतÓ की सरल एवं सुबोध मराठी में टीका लिखी। यह ग्रन्थ अपने पदलालित्य एवं भाषामाधुरी आदि गुणों के कारण मराठी का उच्चकोटि का मौलिक ग्रन्थ बन गया। ऐसे अमूल्य ग्रन्थ को हिन्दी में लाने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ, इसे मैं ईश्वर की इच्छा का भाग समझता हूँ। यह अनुवाद मैंने ब्र० भू० विनायक नारायण जोशी (साखरे महाराज) कृत 'सार्थ ज्ञानेश्वरीÓ से किया है, जिसके लिए मैं उनके प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करता हूँ। —ना०वि०सप्रे विषय-सूची : 1. अर्जुन-विषाद योग, 2. सांख्ययोग, 3. कर्मयोग, 4. ज्ञान-कर्म-संन्याय योग, 5. कर्म सन्यास योग, 6. ध्यान योग (अभ्यास योग), 7. ज्ञान-विज्ञान योग, 8. अक्षर ब्रह्मïयोग, 9. राजविद्या राजगुह्यï योग, 10. विभूति योग, 11. विश्वरूप दर्शन योग, 12. भक्तियोग, 13. क्षेत्रक्षेत्रज्ञ योग, 14. गुणत्रय विभाग योग, 15. पुरुषोत्तम योग, 16. दैवासुर संपद्विभाग योग, 17. श्रद्धात्रय विभाग योग, 18. मोक्ष संन्यास योग।