Padumavati (Malik Muhmmad Jayasikrit) / पदुमावति (मलिक मुहम्मद जायसीकृत) (मूलपाठ तथा साहित्यिक व्याख्या)
Author
: Kanhaiya Singh
  Malik Mohammad Jayasi
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Publication Year
: 2010
ISBN
: 9788171247271
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: xxiv + 536 Pages, Size : Demy i.e. 22.5 x 15 Cm.

MRP ₹ 500

Discount 20%

Offer Price ₹ 400

मलिक मुहम्मद जायसी सू$फी काव्य-परम्परा के सबसे प्राणवान कवि हैं। उनकी रचना 'पदुमावतिÓ भाव और विचार की ऐसी पूँजी है जो काव्य-कला के चरमोत्सर्ग के साथ ही भारत की राष्ट्रीयता और भावनात्मक एकता की एक मिसाल है। इसी से जायसी को 'धरती पुत्रÓ और 'राष्ट्र का महान सपूतÓ कहा गया है। जायसी की इस महान कृति का पाठ विद्वानों की महान उपलब्धियों के पश्चात् भी कई सौ स्थलों पर संदिग्ध और विवादास्पद बना था। प्रस्तुत संपादन में ऐसे सभी स्थलों के मूल पाठ को दुर्लभ फारसी पाण्डुलिपियों के आधार पर ढूँढ़ निकाला गया है। साथ ही इस कृति की साहित्यिक विशेषताओं को रेखांकित करने वाली साहित्यिक व्या?या भी की गई है। इसके संपादक पाठालोचन के मान्य हस्ताक्षर और सू$फी साहित्य के मर्मज्ञ डॉ० कन्हैया ङ्क्षसह हैं। उनकी इस योग्यता को डॉ० माता प्रसाद गुप्त, डॉ० वासुदेवशरण अग्रवाल, आचार्य विश्वनाथ प्रसाद मिश्र, डॉ० परमेश्वरी लाल गुप्त जैसे इस क्षेत्र के प्रतिष्ठित महानुभावों ने स्वीकृति दी है। यह नवीन पाठ और नयी साहित्यिक व्या?या 'पदुमावतिÓ के पाठ और अर्थ की गुत्थियों को सुलझाने में मील का पत्थर सिद्ध होगी।