Amar Shaheed Ganesh Shankar Vidyarthi / अमर शहीद गणेशशंकर विद्यार्थी
Author
: Purushottam Das Modi
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Category
: Bio/Auto-Biographies/Revolutionary/Patriotic Literature
Publication Year
: 2011
ISBN
: 9788189498498
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: xii + 316Pages; 16 Plate; Size : Demy i.e. 22.5 x

MRP ₹ 400

Discount 20%

Offer Price ₹ 320

गणेशशंकर विद्यार्थी का दर्शन करने का सौभाग्ïय मुझे नहीं मिला। मेरे जन्ïम से तीन वर्ष बाद ही वे शहीद हो गये। वे साम्प्रदायिकता की बलिवेदी पर 25-3-1931 को शहीद हुए। मुझे उनके दो समकालीन महापुरुषों के सान्ïिनध्ïय से गणेशशंकर विद्यार्थी के जीवन और कृतित्ïव का दर्शन करने का सौभाग्ïय प्राप्ïत हुआ। इनमें से एक हैं श्री दशरथप्रसाद द्विवेदी जो गोरखपुर में मेरे निवास के सामने रहते थे। गणेशशंकरजी से आयु में वे एक वर्ष छोटे थे। दशरथजी थानेदारी के प्रशिक्षण हेतु मुरादाबाद जा रहे थे कि लखनऊ में उन्ïहोंने गणेशशंकरजी का ओजस्ïवी भाषण सुना और उनकी वक्ïतृता से प्रभावित होकर गणेशशंकरजी की शरण में चले गये और वहाँ 'प्रतापÓ के सहायक सम्पादक बने। दूसरे महापुरुष जिनसे मुझे गणेशशंकरजी के सम्बन्ध में और गहरी जानकारी मिली वह थे एक भारतीय आत्ïमा पं० माखनलाल चतुर्वेदी। माखनलालजी का गणेशशंकरजी से बहुत गहरा सम्ïबन्ध था। पं० माखनलालजी, गणेशशंकरजी के परिवार के एक सदस्ïय हो गये थे। अपनी लम्बी बीमारी के दिनों में पं० माखनलालजी कई वर्षों तक कानपुर में गणेशशंकरजी के यहाँ रहे। विद्यार्थीजी ने अपनी 41 वर्ष की अल्ïपायु में पाँच बार जेल-यात्रा की और 25 मार्च 1931 को साम्प्रदायिक दंगा, जो अंग्रेजों द्वारा आयोजित था, उसमें शहीद हो गये। उस समय के पुलिस हवलदार सोहराब खाँ ने सारी दास्ïतान बताई है।