Kabir Aur Bhartiya Sant Sahitya [PB] / कबीर और भारतीय संत साहित्य (पेपर बैक)
Author
: Ramchandra Tiwari
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Category
: Adhyatmik (Spiritual & Religious) Literature
Publication Year
: 2001
ISBN
: 8171242685
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: viii + 154 Pages, Biblio., Size : Demy i.e. 21.5 x 14 Cm.

MRP ₹ 0

Discount 0%

Offer Price ₹ 0

OUT OF STOCK

कबीर मध्यकालीन भक्ति-आन्दोलन के केन्द्र-बिन्दु हैं। उनका व्यक्तित्व अद्वितीय है। इस आन्दोलन की प्रत्येक हिलोर उनसे टकराती है। वे सभी से भींगते हैं। किन्तु कमल-पत्र की तरह सभी हिलोरों के ऊपर दिखाई देते हैं। वे योगी भी हैं, भक्त भी। सूफी भी हैं, संत भी। निर्गुण भी, सगुण भी। और निर्गुण-सगुण से परे भी। वे हिन्दुओं के भी हैं, मुसलमानों के भी; किन्तु न हिन्दू हैं, न मुसलमान। उनका स्वामी 'रामÓ भी है, 'रहीमÓ भी। 'केशवÓ भी है, 'करीमÓ भी। 'सहजÓ भी है, 'शून्यÓ भी। वह सर्वत्र है और सब में है। उसे किसी नाम से पुकार सकते हैं। प्रस्तुत कृति कबीर को समझने के प्रयत्न में लिखी गई है। इसमें समय-समय पर कबीर और संत-साहित्य पर लिखे गए निबन्ध संगृहीत हैं। कई निबन्ध उनकी छ: सौवीं जयन्ती के उपलक्ष्य में उन्हें याद करते हुए लिखे गए हैं। निबन्धों के विषय-वैविध्य है किन्तु सभी का सम्बन्ध किसी न किसी रूप में कबीर और उनकी परम्परा से है। इन्हें पढ़कर पाठकों को कबीर को समझने में मदद मिलेगी।