Wah Rahasyamaya Kapalik Math / वह रहस्यमय कापालिक मठ (सत्य घटनाओं पर आधारित योग तांत्रिक कथा प्रसंग)
Author
: Arun Kumar Sharma
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Publication Year
: 2014, 2nd Edition
ISBN
: 9789351460176
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: viii + 204 Pages, Size : Demy i.e. 22.5 x 14 Cm.

MRP ₹ 225

Discount 20%

Offer Price ₹ 180

कथा-सार :
एकाएक मुझे होश हुआ। बापरे! यह तो अघोर पन्थियों का बलि देने का ढंग है। वह होमकुण्ड, वह वेदी, वह काली की विकराल मूॢत, वह भयानक युवती और वह लेटा हुआ निरीह बालक..................। — वह रहस्यमयी कापालिक मठ मेरा सारा शरीर काँप उठा। सन्दूकची तोड़कर खोली गयी। उसके भीतर मृगछाला में लपेटी हुई दर्शनशास्त्र की हस्तलिखित एक मोटी-सी पुस्तक रखी मिली। —नरकंकाल रानी राजलक्ष्मी संन्यासी के दोनों पैर सीने से लगाये रो रही थी। संगीत की मूच्र्छा ने विह्वïल बना दिया था राजलक्ष्मी को। उसके अन्तर की सोयी हुई चेतना को जगा दिया था। उस गीत ने..........। —मैं छली गयी। एक बात पूछ सकता हूँ मैं। विपिन बाबू ने अचकचा कर मेरी ओर देखा, पूछिए। क्या पूछना चाहते हैं आ? यह शव किसका है? ओह! विपिन बाबू से जोर से सांस लेकर कहा, यह राजतांत्रिक तारानाथ भट्टाचार्य का है। पिछले 10 वर्षों से इसी प्रकार रखा हुआ है। क्यों? — तंत्र साधना एक राजकुमारी की। कमल के पत्तों पर बिखरी ओस की बूदों को बड़ी हिकमत से इकट्ठा कर पन्ने के गिलास में रख दिया हो, ऐऐसा ही लगा उस समय रत्ना का सौन्दर्य मुझे। एकाएक नजदीक के किसी आश्रम में टन्-टन् ग्यारह का घंटा बजा और रत्ना की पाॢथव काया आलौकिक सत्ता में बदल गयी फिर एक मास के लिए। — दो आत्माएँ