Aangan Mein Ugi Poudh (Stories) / आँगन में उगी पौध (कहानी संग्रह)
Author
: Kusum Chaturvedi
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Category
: Hindi Novels / Fiction / Stories
Publication Year
: 2000
ISBN
: 9APAMUPH
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xii + 132 Pages, Size : Demy i.e. 22 x 14.5 Cm.

MRP ₹ 140

Discount 20%

Offer Price ₹ 112

प्रस्तुत संकलन की कहानियों के केन्द्र में आधुनिक संक्रमणशील मध्यवर्गीय समाज की नारी है। यदा-कदा लेखिका ने मध्यवर्ग के बाहर जाकर झाँकने की कोशिश भी की है किन्तु उसकी दृष्टिï मध्यवर्गीय परिवारों में काम करने वाली या उससे किसी और रूप में जुड़ी महिलाओं तक जाकर ही रुक गई। इन कहानियों में नारी के कई रूप उभरकर सामने आए हैं। कहीं वह उपेक्षिता वृद्धा है, तो कहीं पति-परित्यक्ता सधवा, कहीं पति नामधारी पुरुष के लिए जीवन के सुन्दरतम वर्ष लुटाकर कटुता और उपेक्षा से मर्माहत तलाकशुदा प्रौढ़ा है, तो कहीं दाम्पत्य जीवन व्यतीत करती हुई भी भावात्मक असन्तुलन के कारण घुटन भरी जिन्दगी जीने के लिए अभिशप्त युवती। विधवाओं के भी अनेक चेहरे हैं। कहीं वह वृद्धा माँ के रूप में है। उम्र सत्तर साल के ऊपर हो चुकी है, फिर भी उसे पोते-पोतियों के नखरे उठाने पड़ते हैं और बहू उसकी असह्यï स्थिति का नाजायज फायदा उठाती है। कहीं वह एकाकिनी मनस्ताप से दग्ध प्रौढ़ा के रूप में है। बेटा पति की मृत्यु के तीन महीने बाद अमेरिका चला गया है, बेटी अपने में मग्न रहती है और वह पति की स्मृतियों को सँजोये, आजीवन उसे न समझ पाने की पीड़ा से मर्माहत साँसें ढो रही है। नारी की विसंगतियों भरे जीवन के अनेक रूप इन कहानियों में हैं जो पाठक के मन को स्पर्श करते हैं। अनुक्रम : 1. ढलान पर / 2. आँगन पर उगी पौध / 3. निषेध / 4. इससे पहले / 5. मंजिल और भटके कदम / 6. अयाचित / 7. समझदारी / 8. गूँगी चिडिय़ा / 9. नाटक / 10. अर्चनागृह / 11. पत्र जो पहुँचा नहीं / 12. दुकानदारी / 13. मुक्ति / 14. बीजारोपण / 15. संक्रमण / 16. अनजाने मोड़ / 17. अनुत्तरित / 18. पड़ाव / 19. उ$फान पर / 20. प्रश्न / 21. आमने-सामने / 22. अन्तराल / 23. संतान-सुख।