Praudha Rachananuvad Kaumudi / प्रौढ़ रचनानुवाद कौमुदी
Author
: Padmashri Dr. Kapil Deva Dvivedi
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 2018, 23rd Edition
ISBN
: 9789351461210
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xvi + 440 Pages, Index, Gloss., Size : Demy i.e. 22 x 14 Cm.

MRP ₹ 600

Discount 20%

Offer Price ₹ 480

This is a book for higher Sanskrit studies. It is written on scientific method. Here Sanskrit Grammar, translation and composition are taught. Here the whole Sanskrit grammer is given into 3 hundred rules in 60 exercises. Idiomatic Sanskrit translation is taught. The book contains 100 Shabd Rupas, 100 Dhatu Rupas, 20 essays in Sanskrit, 1000 Sanskrit maxims. A dictionary of technical terms.

यह वैज्ञानिक पद्धति से लिखी गई संस्कृत व्याकरण, अनुवाद और निबन्ध की आदर्श पुस्तक है। इसमें 300 नियमों और 1500 शब्दों के द्वारा 60 अभ्यासों में समस्त संस्कृत व्याकरण की शिक्षा दी गई है। इसमें 1000 शब्दरूप, 100 धातुओं के 10 लकारों के रूप, धातुरूप कोश, प्रत्यय-विचार, संधिविचार, 20 उच्चस्तरीय निबन्ध, सुभाषित-मुक्तावली, पारिभाषिक शब्दकोश, संस्कृत-हिन्दी शब्दकोश आदि का संकलन है। प्रौढ़ संस्कृत लिखने के ज्ञान के लिए यह आदर्श ग्रन्थ है।