Rachananuvad Kaumudi / रचनानुवादकौमुदी
Author
: Padmashri Dr. Kapil Deva Dvivedi
Language
: Hindi + Sanskrit
Book Type
: Text Book
Category
: Sanskrit Grammar/Language
Publication Year
: 2019, 45th Edition
ISBN
: 9788171249893
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: xvi + 280 Pages, Append., Index, Size : Demy i.e. 21.5 x 13.5 Cm.

MRP ₹ 100

Discount 15%

Offer Price ₹ 85

The book is written for intermediate and Graduate students of Sanskrit. The book contains two hundred rules which are essential for beginners of Sanskrit. There are 60 exercise. Here a method is adopted how a non Sanskrit student can read write and speak Sanskrit in 3 or 4 months without committing to memory Sanskrit Sutras. It contains all essential Shabd Rupas and Dhatu Rupas. Sandhi rules are given. Twenty essays in simple Sanskrit are given. A dictionary of technical terms is also given.

यह वैज्ञानिक पद्धति से लिखी गई संस्कृत व्याकरण, अनवुाद और निबन्ध की आदर्श पुस्तक है। इसमें 200 नियमों एवं 1500 शब्दों के द्वारा 60 अभ्यासों में संस्कृत व्याकरण के विशेष उपयोगी नियमों की शिक्षा दी गई है। इसके अध्ययन से सामान्य हिन्दी ज्ञान वाला व्यक्ति भी 3 या 4 मास में सरल संस्कृत लिख और बोल सकता है। इसमें उपयोगी सभी शब्दरूप और धातुरूप दिए गए हैं। साथ ही संक्षिप्त धातुकोश, प्रत्ययविचार, संधिविचार, 20 सरल संस्कृत में निबन्ध, छन्द-परिचय और पारिभाषिक शब्दों का विवरण दिया गया है।