Adhunik Hindi Kavya / आधुनिक हिन्दी काव्य
Author
: Dr. Satya Narain Singh
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 2012
ISBN
: 9788171248964
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: viii + 152 Pages, Append., Size : Demy i.e. 21 x 13 Cm.

MRP ₹ 40

Discount 10%

Offer Price ₹ 36

यह संग्रह स्नातक छात्रों को दृष्टिï में रखकर प्रस्तुत किया गया है। प्रारम्भ में भूमिका रूप में आधुनिक हिन्दी कविता के विकास के अंतर्गत आधुनिक हिन्दी कविता की समस्त प्रवृत्तियों की जानकारी कराई गयी है। संकलित कवि और उनका काव्य में कवियों के कविकर्म की विस्तृत समीक्षा की गयी है। खड़ी बोली हिन्दी कविता की यात्रा मैथिलीशरण गुप्त से प्रारम्भ होकर 'अज्ञेयÓ तक पहुँचते-पहुँचते अनेक मार्ग बदलती है। कथ्य, विषय, भाषा, शैली सभी में अनेक परिवर्तन हुए। छात्रों को इस समग्रता का बोध कराना, इस संग्रह का मुख्य उद्देश्य है। आशा है यह संग्रह अपने उद्देश्य में सफल होगा। जिन कवियों की रचनाएँ इसमें संकलित की गई हैं, उनके प्रति विनम्र आभार। अनुक्रम : भूमिका : आधुनिक हिन्दी कविता का विकास / संकलित कवि और उनका काव्य / मैथिलीशरण गुप्त : पंचवटी, यशोधरा-विरह, कैकेयी-अनुताप, कुब्जा / जयशंकर प्रसाद : भारतवर्ष, ले चल वहाँ भुलावा देकर, बीती विभावरी जागरी! आँसू, हे लाज भरे सौन्दर्य / सूर्यकान्त त्रिपाठी 'निरालाÓ : जागो फिर एक बार, बादल-राग, वह तोड़ती पत्थर, स्नेह-निर्झर बह गया है / सुमित्रानन्दन पंत : भारत माता, मौन-निमन्त्रण, गा कोकिल, वाणी, पर्वत-प्रदेश में पावस / महादेवी वर्मा : यह मन्दिर का दीप इसे जलने दो, पंथ होने दो अपरिचित, मैं पलकों में पाल रही हूँ, मैं नीर भरी दु:ख की बदली, वसन्त-रजनी / रामधारी ङ्क्षसह 'दिनकरÓ : जनतन्त्र का जन्म, कुरुक्षेत्र, भारत का यह रेशमी नगर, वीर-राग / सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन 'अज्ञेयÓ : हमारा देश, नदी के द्वीप, देना जीवन, पास और दूर / परिशिष्टï।