Jo Chhod Gaye We Bhee Rahenge / जो छोड़ गये वे भी रहेंगे
Author
: Shankar Dayal Singh
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Category
: Hindi Memoirs, Travellogue, Diary, Sketch, Reportes etc.
Publication Year
: 1986
ISBN
: 9APJCGWBRH
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: viii + 100 Pages, Size : Demy i.e. 22 x 14 Cm.

MRP ₹ 40

Discount 15%

Offer Price ₹ 34

OUT OF STOCK

जो आज हमारे बीच नहींं हैं लेकिन हैं उनकी सुगंध जिसे आप पुस्तक के प्रस्तुत पन्नों को पलटकर पा सकेंगे अनुक्रम : 1. एक-एक कर वे साथ छोड़ते गए 2. कभी न बुझने वाली लौ-द्विवेदी जी 3. इन्दिरा-प्रसंग के वे दिन 4. भवानी भाई भी चले गए...... 5. फुजौई : बुद्ध और गांधी एक साथ 6. किसानों को उन्होंने भगवान् माना था। 7. अब ऐसे लोग कहाँ हैं 8. जे० कृष्णमूॢत : विचारक, दार्शनिक या चिन्तक 9. हिन्दी और भारत दोनों उन्हें भूल नहींं सकते 10. छोटा नागपुर का शेर : बाबू रामनारायण ङ्क्षसह 11. याद आते हैं : हिन्दी के वे महारथी 12. वे शत-प्रतिशत कलाकार थे 13. उनकी याद धरोहर रहेगी 14. चन्दौसी आया तो उनकी याद आई 15. बेचारे भोला पासवान शास्त्री 16. बसंत का आगमन और वाणी पुत्र निराला 17. महेश बाबू की याद 18. वह करुण अवसान 19. रजनी को सब याद करते है : लेकिन रजनी भाई को 20. गुलशन नन्दा : मेरे मित्र 21. साहित्यकार के जीवन-मरण से जुड़े चन्द सवाल 22. हिन्दी सेवकों की पंक्ति में उनका स्थान अग्रिम था 23. हँसता हुआ आदमी जो सबको रुला गया 24. दुनियाँ से अच्छे लोग उठते जा रहे हैं