Agyeya Aur Muktibodh Ki Pratinidhi Kavitayen (Collection of Poems) / अज्ञेय और मुक्तिबोध की प्रतिनिधि कविताएँ
Author
: Dr. Shambhu Nath Tripathi
Language
: Hindi
Book Type
: Text Book
Publication Year
: 1998
ISBN
: 9APAAMKPKP
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: iv + 140 Pages, Size : Demy i.e. 21 x 13 Cm.

MRP ₹ 30

Discount 10%

Offer Price ₹ 27

A Unique Collection of Foremost Poems of Sachchidanand Vatsyayan Agyeya and Gajanan Madhav Muktibodh alongwith Commentary on their works. The name of poems are :- AGYEYA : Savan-Megh, Kalangi Bajare Ki, Bawara Aheri, Son Machali, Asadhya Veena and MUKTIBODH : Bhool-Galati, Andhere Main

अनुक्रम : 1. भूमिका—प्रयोगवाद और नयी कविता का प्रवृत्तिगत विश्लेषण, लम्बी कविता तथा छोटी कविता का रचना-शिल्प, अज्ञेय : एक आलोचनात्मक दृष्टिï, अज्ञेय का शिल्प-विधान : सम्प्रेषण : काव्य-भाषा, प्रतीक-योजना : बिम्ब-विधान, मुक्तिबोध : एक आलोचनात्मक दृष्टिï, मुक्तिबोध का शिल्प-विधान : संक्षिप्त विश्लेषण, मुक्तिबोध का काव्य : पठनीयता का संकट / 2. कवि-परिचय—सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन 'अज्ञेयÓ, गजानन माधव 'मुक्तिबोधÓ, / 3. कविताएँ—सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन 'अज्ञेयÓ (क) सावन-मेघ, (ख) कलँगी बाजरे की, (ग) बावरा अहेरी, (घ) सोन मछली, (ङ) असाध्य वीणा, गजानन माधव 'मुक्तिबोधÓ, (क) भूल-गलती, (ख) अँधरे में / 4. टिप्पणी।