Brahmarshi Devraha-Darshan / ब्रह्मर्षि देवराहा-दर्शन
Author
: Dr. Arjun Tiwari
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Publication Year
: 2012
ISBN
: 9788171248469
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: viii + 124 Pages, Size : Demy i.e. 21.5 x 13.5 Cm.

MRP ₹ 60

Discount 15%

Offer Price ₹ 51

जब आनन्द में अवसाद, शान्ति में अशान्ति, योग में भोग की प्रवृत्ति बढ़ती है तो युगद्रष्टïा गुरु की खोज में सभी विकल रहते हैं। ब्रह्मïॢष देवराहा बाबा इस कलियुग में अप्रतिम गुरु थे जो भगवत्स्वरूप थे जिनके दर्शन, स्पर्श और शुभाशीष से तत्व ज्ञान की प्राप्ति सम्भव थी। उनके अन्त:करण से प्रस्फुटित वाणी में मानव पर मंत्रवत् प्रभाव डालने की क्षमता थी। वे भारतीय संस्कृति के विग्रह थे जो दया, ममता, कल्याण के स्तोत्र थे। पूज्य देवराहा बाबा का सर्वात्म दर्शन मानव में सद्भाव, प्रेम और विश्वशान्ति का उत्प्रेरक तत्व है जिसकी आज सर्वाधिक आवश्यकता है। ब्रह्मïॢष देवराहा बाबा के नाम की जितनी प्रसिद्धि है, उनके परिचय की उतनी ही अल्पता है। उनके दिव्य व्यक्तित्व को सांगोपांग रूप में प्रस्तुत करने में डॉ० अर्जुन तिवारी का प्रयास प्रशंसनीय है। बाबा के शिष्य डॉ० तिवारी ने पत्रकार-सुलभ प्रवृत्ति के चलते युग-प्रवर्तक संत, भक्त और योगी की जीवन-गाथा को प्रामाणिक रूप में उपस्थापित किया है। श्रद्धार्चन, जीवन-जाह्नïवी, सर्वात्मभक्ति-योग, प्रवचन-पीयूष, सुबोध कथा, सूक्ति-मुक्ता और अनुगतों की अनुभूति नामक अध्यायों में ब्रह्मïॢष से संदॢभत अनुकरणीय तथ्य हैं। इसका प्रत्येक शब्द आध्यात्मिक अनुभूति से स्फूर्त है जिसके चिन्तन और मनन से मन को अलौकिक शान्ति मिलती है और चित्त निर्मल होता है। —रामकुमार त्रिपाठी विषयानुक्रमणिका : प्रथम अध्याय : श्रद्धार्चन द्वितीय अध्याय : जीवन-जाह्नïवी तृतीय अध्याय : सर्वात्मभक्ति-योग चतुर्थ अध्याय : प्रवचन-पीयूष पंचम अध्याय : सुबोध कथा षष्ठï अध्याय : सूक्ति मुक्ता सप्तम अध्याय : अनुगतों की अनुभूति।