Kundlini Shaktiyoga Tatha Samadhi Evam Moksha : Vaigyanik Drishti / कुण्डलिनी शक्तियोग तथा समाधि एवं मोक्ष : वैज्ञानिक दृष्टिï
Author
: Dr. Dinesh Kumar Agrawal
Language
: Hindi
Book Type
: General Book
Publication Year
: 2005
ISBN
: 8171244505
Binding Type
: Paper Back
Bibliography
: viii + 120 Pages, Append., Size : Demy i.e. 21.5 x 14 Cm.

MRP ₹ 80

Discount 15%

Offer Price ₹ 68

OUT OF STOCK

प्रस्तुत ग्रन्थ के लेखक ने कुण्डलिनी-शक्तियोग के विषय में प्राचीन योगशास्त्रों के आधार पर प्रयोजन, लक्ष्यादि बड़े विस्तार और मननपूर्वक अध्ययन से योग-विद्या का प्रतिपादन किया है। ब्रह्मïविद्या अगाध सागर है। ब्रह्मïवित् होने से जो शुद्ध परमानन्द ब्रह्मï ही है तथा जो अज्ञानरूपी अन्धकार का नाश करने के लिए सूर्य के तुल्य है। परमात्मा की कृपा के बिना यह सहज सम्भव नहीं है। इस विषय पर अनेक ग्रन्थ प्रकाशित हैं, किन्तु साधक, साधन और साध्य इन पर प्रस्तुत ग्रन्थ में योग-सूत्रों का सरल भाषा में प्रतिपादन हुआ है। हमारा अध्यात्म भी विज्ञान है। आधुनिकता के आज के वातावरण में ऋषि-मुनियों की उपलब्धियों को आयात करने में अवश्य कठिनाई होती है। लेखक ने इन कठिनाइयों के निवारण के लिए आज के युग के अनुरूप आधुनिक विज्ञान के द्वारा प्राचीन योगशास्त्रों को समझाने का भरपूर प्रयास किया है। इस ग्रन्थ की यह विशेषता है। वास्तव में यह गुरु-विद्या है।