Agyeya Ki Gadya Shaili / अज्ञेय की गद्य शैली
Author
: Savitri Mishra
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Category
: Hindi Literary Criticism / History / Essays
Publication Year
: 1984
ISBN
: 9VPAKGSH
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xii + 188 Pages, Append., Size : Demy i.e. 22 x 13.5 Cm.

MRP ₹ 0

Discount 15%

Offer Price ₹ 0

OUT OF STOCK

हिन्दी गद्य-साहित्य की बौद्धिक गरिमा एवं सांस्कृतिक परिष्कार देने वाले आधुनिक रचनाकारों में अज्ञेय का स्थान अन्यतम है। उन्होंने निबन्ध यात्रावृत्त, संस्मरण, समीक्षा, कहानी, उपन्यास आदि गद्य विधाओं को समृद्ध किया है और इन सबके माध्यम से अपने विरल, विशिष्टï साहित्यिक व्यक्तित्व की छाप पूरे युग-मानस पर अंकित की है। प्रस्तुत शोध-प्रबन्ध में उनकी गद्य शैली के विविध भाषाओं का गम्भीर एवं स्पष्टï विवेचन प्रस्तुत किया गया है। लेखिका ने शैली के तात्विक स्वरूप को स्पष्टï करने और 'अज्ञेयÓ के समसामयिक प्रमुख रचनाकारों की गद्य-शैली के आलोक में अज्ञेय की गद्य-शैली का विवेचन करने में भी श्रम, विवेक और समीक्षा दृष्टिï का अच्छा परिचय दिया है। प्रस्तुत शोध प्रबन्ध से 'अज्ञेयÓ के साहित्य के जिज्ञासुओं को मन:तुष्टिï तो होगी ही आधुनिक गद्य-साहित्य के शैली-गत विकास का लेखा-जोखा रखने वाले इतिहासकारों को भी बहुत कुछ प्राप्त हो सकेगा ऐसा विश्वास है। इसी विश्वास के साथ ग्रन्थ हिन्दी जगत् को समॢपत है। विषय-सूची : प्रथम अध्याय—शैली का स्वरूप विवेचन और गद्य-शैली के भेद (शैली-विषयक परम्परागत पर्यायों का तुलनात्मक अनुशीलन, परम्परागत काव्यशास्त्रीय सिद्धान्तों में शैली के विनियोग का स्वरूप, व्यक्तित्व और शैली, भाषा और शैली), द्वितीय अध्याय—अज्ञेय-पूर्व गद्य-शैली का स्वरूप-विकास, तृतीय अध्याय—वैचारिक पृष्ठïभूमि तथा वस्तु एवं शैलीगत आयामों की दृष्टिï से समकालीन गद्य-लेखन और अज्ञेय, चतुर्थ अध्याय—अज्ञेय की कहानी शैली, पंचम अध्याय—अज्ञेय की औपन्यासिक गद्य-शैली, षष्ठï अध्याय—अज्ञेय के निबन्धों की गद्य-शैली, सप्तम अध्याय—अज्ञेय के समीक्षा-साहित्य की गद्य-शैली, उपसंहार, परिशिष्टï, साक्षात्कर : 1. श्री सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन 'अज्ञेयÓ, 2. डॉ० नामवर ङ्क्षसह, 3. डॉ० जगदीश गुप्त से, 4. पं० सीताराम चतुर्वेदी, सन्दर्भ-ग्रन्थ सूची।