Samkalin Kavi : Eak Antahsutra / समकालीन कवि : एक अन्त:सूत्र
Author
: Ratan Kumar Pandey
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Category
: Hindi Literary Criticism / History / Essays
Publication Year
: 2008
ISBN
: 9AGSKEAH
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: viii + 164 Pages, Append., Size : Demy i.e. 22.5 x 14.5 Cm.

MRP ₹ 100

Discount 15%

Offer Price ₹ 85

अनुक्रम : पुरोवाक् गजानन माधव 'मुक्तिबोधÓ 1. जनता के गुणों से संभव है, भावी का उद्भव / 2. विरोधी भाव-चित्रों को धूप-छांही मेल / 3. मूल्य संकल्प और मुक्तिबोध की कविता / 4. मुक्तिबोध की कविता : वस्तुगत यथार्थ की कलात्मक अभिव्यक्ति खण्ड 2 केदारनाथ ङ्क्षसह 5. केदारनाथ ङ्क्षसह की कविताओं में दृष्टि एवं बोध की गतिशीलता / 6. कुछ सवाल कुछ मुद्दे एवं कुछ उम्मीदों की कविता / 7. केदारनाथ ङ्क्षसह की कविताओं का काव्य-सौन्दर्य खण्ड 3 रघुवीर सहाय 8. रघुवीर सहाय : काव्य चेतना के सामाजिक क्षितिज / 9. रघुवीर सहाय की काव्य-भाषा के आंतरिक सन्दर्भ / 10. राजनीति के लिए कविता नहीं, वरन् कविता के लिए राजनीति परिशिष्ट रघुवीर सहाय पर— 1. लोग भूल गए हैं —डॉ० चन्द्रकान्त बान्दिवडेकर / 2. मानवीय करुणा की सार्थक पहचान : रविनाथ ङ्क्षसह / 3. रघुवीर सहाय का काव्य : भाषिक सर्जना : डॉ० रविनाथ ङ्क्षसह / 4. कवि गोरख पाण्डेय : मानसिक गुलामी की परिधि : डॉ० रतन कुमार पाण्डेय