Bauddha Tatha Jain Dharma (Buddhism And Jainism) / बौद्ध तथा जैन धर्म : धम्मपद और उत्तराध्ययन सूत्र का एक तुलनात्मक अध्ययन
Author
: Mahendra Nath Singh
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Category
: History, Art & Culture
Publication Year
: 2004
ISBN
: 8171243827
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: xxiv + 260 Pages, Biblio., Size : Demy i.e 22.5 x 15 Cm.

MRP ₹ 0

Discount 20%

Offer Price ₹ 0

OUT OF STOCK

बौद्ध तथा जैन धर्म श्रमण संस्कृति की धाराएँ हैं। जो एक साथ संयुक्त रूप से देश में प्रवाहित हुई। तथागत बुद्ध और तीर्थंकर महावीर समकालीन थे। दोनों का प्रचार स्थल प्राय: पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार रहा। दोनों मानवतावादी थे। बौद्ध धर्म का प्रभाव समस्त दक्षिण पूर्व एशिया पर पड़ा। बौद्ध धर्म का लोकप्रिय ग्रन्थ 'धम् मपदÓ तथा जैन धर्म का प्रमुख ग्रन्थ 'उत्तराध्ययनÓ है। दोनों धर्मों में यद्यपि समानताएँ होते हुए भी अनेक विविधताएँ हैं। इस शोध-ग्रन्थ में दोनों धर्मों के महत्त्वपूर्ण ग्रन्थों के आधार पर विस्तृत तथा समीक्षात्मक अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। बौद्ध तथा जैन धर्म के उपर्युक्त प्रमुख ग्रन्थों को दृष्टिïगत रखते हुए शरण-गमन, अर्हत् तत्त्व, कर्म एवं निर्वाण, आचार-मीमांसा, मनोवैज्ञानिकधारणाएँ, यथाचिन्त, अप्रमाद, कषाय तथा तृष्णा का सामाजिक एवं सांस्कृतिक अध्ययन प्रस्तुत किया गया है, आशा है बौद्ध तथा जैन धर्म के जिज्ञासु पाठक प्रस्तुत ग्रन्थ से लाभान्वित होंगे।